Wednesday, August 22, 2007

हाईकु

(मन में उठते हैं ढेरों ख्याल, उमड़ घुमड़ कर, इस बार हाइकु बन गए)


(1)
माटी समेटे
सागर की लहरें
सौंधी खुशबू ।

(2)
चाँदनी रात
नीम की छाँह तले
जलती आग ।

(3)
गरजे मेघ
भीग गया अंतर्मन
हवा है नम ।

(4)
उठा गगरी
थाम ले ये सागर
मेघ चंचल ।


11 comments:

अनूप शुक्ला said...

बढ़िया हैं जी। बधाई!

meenu said...

प्रकृति से प्रेम और प्रेम में विरोधाभास का सुन्दर रूप,
अति उत्तम

arbuda said...

शुक्रिया अनूप जी और मीनाक्षी जी, आपने रचना पढ़ी तथा सराही. आभार.

अंतर्मन | Inner Voice said...

अच्छे हैं!

हरिराम said...

गागर में सागर!

खुश said...

बहुत बढ़िया जी. बहुत बढ़िया लिखा है। सभी कविताएं जबरदस्त हैं।

रंजू said...

चाँदनी रात
नीम की छाँह तले
जलती आग ।

बहुत सुंदर

Anonymous said...

I found this site using [url=http://google.com]google.com[/url] And i want to thank you for your work. You have done really very good site. Great work, great site! Thank you!

Sorry for offtopic

Anonymous said...

Pleased Additional Year[url=http://pavuyume.tripod.com/] everybody under the sun! :)

Anonymous said...

[url=http://bit.ly/couponsstriderite]stride rite coupons[/url]

Anonymous said...

Helo ! Forex - Работа на дому на компьютере чашка кофе нравится ситуация стала независимой, просто зарегистрируйтесь forex [url=http://foxfox.ifxworld.com/]forex[/url]

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...